नमकीन कॉफी पी है???

ये कहानी कॉलेज में पढ़ी थी...दिल को छू जाने वाली कहानी है...उम्मीद है आपको भी पसंद आएगी


उन दोनों की मुलाकात एक पार्टी में हुई थी.वो बेहद ख़ूबसूरत थी, कई लोग उससे दोस्ती करने को बेक़रार थे. जबकि उस
लड़के पर कोई ध्यान ही नहीं दे रहा था. वो बेहद सामान्य था. पार्टी ख़त्म होते-होते उसने हिम्मत जुटाई और उस लड़की
को साथ कॉफी पीने का न्योता दिया. लड़की हैरान थी लेकिन उसने सभ्यता दिखाते हुए न्योता स्वीकार कर लिया. थोड़ी देर बाद दोनों एक शानदार कॉफी हाउस के एक कोने में बैठे थे. लड़का बेहद नर्वस था, कुछ भी नहीं कह पा रहा था. लड़की झिझक रही थी और उसकी इस चुप्पी से परेशान थी. मन ही मन में सोच रही थी कि अब इससे कहूं कि मुझे प्लीज़ घर जाने दो. अचानक...लड़के ने वेटर से कहा क्या आप मुझे थोड़ा सा नमक देंगे? सब लोग उसे ही देखने लगे...शर्म के मारे लड़के का चेहरा लाल हो गया...लेकिन उसने वेटर से नमक लिया और अपनी कॉफी में डाल लिया...लड़का कॉफी की चुस्कियां ले रहा था. आखिर लड़की ने पूछ लिया तुम नमकीन कॉफी क्यों पीते हो...लड़के ने कहा मैं जब छोटा था तब समंदर किनारे रहता था. फिर घर छूट गया लेकिन मेरे माता-पिता अब भी उसी समंदर के किनारे रहते हैं...अब भी मेरे होठों पर समंदर के नमकीन पानी का स्वाद है...जब भी नमकीन कॉफी पीता हूं मुझे अपने घर की याद आती है अपने माता-पिता की याद आती है. इतना कहते-कहते उसकी आंखें भर आईं. लड़की भी उसकी बातें सुनकर भावुक हो गई. उसने सोचा ये इस इंसान की असली भावनाएं हैं...यही ये सोचता है...ये घर की याद से परेशान है इससे पता चलता है कि ये घर के बारे में सोचता है....घर की जिम्मेदारी के बारे में सोचता है और घर को प्यार करता है...इसके बाद लड़की ने भी अपने से दूर रह रहे परिवार के बारे में कहा...उसे बताया कि उसे अपना बचपन, अपना परिवार कितना याद आता है.
तो इस तरह दोनों की बातें काफी खूबसूरत थीं, उतनी ही खूबसूरत थी उनकी कहानी की शुरुआत...
अब वो दोनों रोज़ ही मिलने लगे. इस दौरान लड़की को एहसास हुआ कि लड़का बेहद सहनशील, दयालु और दूसरों का ख्याल रखने वाला है.

और फिर वही हुआ जो हर खूबसूरत प्रेम कहानी में होता है दोनों ने शादी कर ली. दोनों के दिन मज़े से बीत रहे थे. हर बार
जब वो लड़की उसके लिए कॉफी बनाती तो उसमें थोड़ा सा नमक डाल देती क्योंकि उसे पता था कि उसे कॉफी नमकीन ही पसंद है. 40 साल के बाद उस शख्स की मौत हो गई. उसने अपनी पत्नी के नाम एक खत छोड़ा था. खत में लिखा था
"प्रिय, मुझे माफ कर देना, मेरी जिंदगी भर के झूठ को माफ कर देना. मैंने तुमसे ज़िंदगी में सिर्फ यही झूठ कहा है, वो है नमकीन कॉफी. याद है जब हम पहली बार मिले थे मैं तब कितना नर्वस था, असल में मैं वेटर से चीनी मांगना चाहता था लेकिन मेरे मुंह से नमक निकल गया. मेरे लिए इसे बदलना काफी मुश्किल था इसलिए मैं इस बात पर अड़ा रहा कि मुझे नमक ही चाहिए. मैंने कभी नहीं सोचा था कि ये हमारे रिश्ते की शुरुआत होगी. मैंने कई बार तुम्हें सच बताना चाहा लेकिन नहीं बता सका क्योंकि मैंने तुमसे वादा किया था कि कभी तुमसे झूठ नहीं बोलूंगा. अब मैं मर रहा हूं और तुम से सच नहीं
छिपाना चाहता, सच ये है कि मुझे नमकीन कॉफी पसंद नहीं है, कितना खराब स्वाद होता है. लेकिन मैं पूरी जिंदगी
नमकीन कॉफी पीता रहा, जो मैंने किया उसके लिए मुझे कभी दुख नहीं हुआ क्योंकि तुम्हें पाना तुम्हारे साथ जिंदगी बिताना
मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी खुशी है. मुझे दूसरी जिंदगी बिताने का मौका मिला तो तुम्हें ही पाना चाहूंगा...चाहे मुझे फिर
नमकीन कॉफी पीने पड़े." उस शख्स की पत्नी के आंसुओं ने उस खत को भिगो दिया.
किसी दिन किसी ने उससे पूछा कि नमकीन कॉफी का स्वाद कैसा होता है?
मीठी, बेहद मीठा उसका जवाब था....

टिप्पणियाँ

Jandunia ने कहा…
सार्थक पोस्ट
दिलीप ने कहा…
oh itna pyaar...bhavuk rachna
indli ने कहा…
नमस्ते,

आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिजली बिन सब सून

जब खिलेगा नव अंकुर